Thursday, July 30, 2015

गौरैया का घोसला...



मैंने तुमसे कई बार कहा
गौरैया के पंखों से
घोसला बनाना छोड़ दो
___________________

उस दिन तुम न जाने कहाँ से निकाल लाई मेरा पुराना स्वेटर और  लगी उधेड़ने. ऐसा लगा तुम स्वेटर नहीं मुझे उधेड़ रही हो. इन गुजरे सालों में तुमने मुझे इतना जाना है जितना मै खुद को कई जिंदगियो में भी नहीं जान पाया हूँ.
ये हरा स्वेटर मुझे बहुत पसंद है. तुमने ही तो बुना था. नाप लेते वक़्त जब मैंने पूछा - किसलिए ! Surprise. वो सरप्राइज यही हरा स्वेटर था. इसे तुमने प्यार से बुना था, अब इसकी इक इक परत उधेड़ रही हो.

मै बिलकुल भी समझ नहीं पाया तुम्हे
अस्तित्व में तुम्हारे
तुम तो हो, लेकिन
तुमसे जुदा भी कोई है.
रात की रसोई में
मैंने कई बार
नमक तलाशते देखा है तुम्हे.

उस दिन जब बादल फटे तो लगा की तुम लौट आई हो इक लम्बी यात्रा से. क्या ये सिर्फ संयोग था. गौरैया ने अंडे दिए, तुमने मुझे हरा स्वेटर. इस बार नाप भी तो नहीं लिया.

_______________________________
                                                चिन्मय 

Friday, July 24, 2015

मुझे पता है...


मुझे पता है
धूप को मुट्ठी में बंद करना
जानती हो तुम

चाँद सितारों के साथ
खेलना भी
आता है तुमको

परछाई के साथ
आँख मिचौली
खूब भाती है तुमको

कैसे ढूंढ लेती हो
घुप्प अंधरे में
उसे...

_____________________________
                                          चिन्मय


मैंने कहा था न तुमसे...


जब तुम
मीठी नींद सो रही हो
मै शब्द लिख रहा हूँ
________________


मैंने कहा था न तुमसे
एक कविता लिखूंगा
जो तुम्हारी हंसी की तरह बेबाक
कुछ शब्द बिखेर देगी
मेरी डायरी के पन्नों में

शब्द अभी बिखरे नहीं हैं
खिलखिलाहट बिखरने लगी है
मेरे अंतस में

हाँ..!
मैंने कहा तो था
- लिखूंगा

एक कविता में
तुमको समेट पाना
मुमकिन नहीं होगा
तुम अथाह हो
इक क़तरा तक तो पाया नहीं
मैंने तुम्हारा

चमकीले ख्वाब
तुमनें आकाश की चादर में टाँके थे
सोचती थी
सारी ज़िन्दगी इस चादर को ओढ़ सोती रहूंगी
तुम्हे क्या पता था
जिसे तुमने चादर समझा
वो अनंत अंतरिक्ष है
लेकिन
तुम्हारे चमकीले ख्वाब
सदा के लिए महफूज़ हो गए

तुम देख रही हो ना आसमान
देखो
उन झिलमिल सितारों को
पहचानती हो..!
शायद...

______________________
                               चिन्मय

मैंने कोशिश की तो थी...


मैंने कोशिश की तो थी
तुम्हें बताने की 
लेकिन तब तक 
तुम अपनी लम्बी यात्रा पर निकल चुकी थी. 

उस दिन दरवाज़े तक आ गया था पानी 
हमें बाहर निकलने के लिये पुल चाहिए था
लेकिन तुमने बालों की क्लिप निकाल कर
नाव बनाई और 
उस पार निकल गई 
बालों के खुलने पर बवंडर भी आया
और 
उस पार जाकर भी तुमने 
बाँधा नहीं बालों को 

मै टापू बना 
बवंडर का सामना करता रहा.

___________________________
                                   चिन्मय